Friday, November 27, 2009

कुछ पल - टाइम मशीन में

बड़े भाई से लम्बी बातचीत करने के बाद काफी देर तक छोटे भाई से भी फ़ोन पर बात होती है. यह दोनों भाई जम्मू में हमारे मकान मालिक के बेटे हैं. इन्टरनेट पर मेरे बचपन के बारे में एक आलेख पढ़कर बड़े भाई ने ईमेल से संपर्क किया, फ़ोन नंबर का आदान-प्रदान हुआ और आज उनतालीस साल (39) बाद हम लोग फिर से एक दुसरे से मुखातिब हुए. इत्तेफाक से इसी हफ्ते उसी शहर के एक सहपाठी से पैंतीस साल बाद बात हुई. उस बातचीत में थोड़ी निराशा हुई क्योंकि सहपाठी ठीक से पहचान भी नहीं सका था. मगर इन भाइयों की याददाश्त और उत्साह ने निराशा के उस अंश को पूरी तरह से धो डाला.

जम्मू के गरनों का स्वाद अभी भी याद है
फ़ोन रखकर हम लोग अपना सामान कार में सेट करते हैं और निकल पड़ते हैं धन्यवाद दिवस (Thanksgiving Day) की अपनी ६०० मील लम्बी यात्रा पर. पिट्सबर्ग के पहाडी परिदृश्य अक्सर ही जम्मू में बिताये मेरे बचपन की याद दिलाते हैं. जगमगाते जुगनुओं से लेकर हरे भरे खड्डों तक सब कुछ वैसा ही है. आगे चल रही वैन का नंबर है JKT ३६४६. जम्मू में होने का अहसास और वास्तविक लगने लगता है. गति सीमा ७० मील है मगर अधिक चौकसी और भीड़ के कारण कोई भी गाडी ८० से ऊपर नहीं चल रही है. जहां तहां किसी न किसी गाडी को सड़क किनारे रोके हुए लाल-नीली बत्ती चमकाती पुलिस नज़र आ रही है. वाजिब है, धन्यवाद दिवस की लम्बी छुट्टी अमेरिका का सबसे लंबा सप्ताहांत होता है. इस समय सड़क परिवहन भी अपने चरम पर होता है और दुर्घटनाएं भी खूब होती हैं, जम्मू की यह गाडी तेज़ लेन में होकर भी सुस्त है. रास्ता नहीं दे रही है. मुझे दिल्ली के अपने बारह साल पुराने शांत सहकर्मी फक्कड़ साहब याद आते हैं. यातायात की परवाह न करके वे अपने बजाज पर खरामा-खरामा सफ़र करते थे. मगर रहते थे हमेशा सड़क के तेज़ दायें सिरे पर. हमेशा पीछे से ठोंके जाते थे.

आधा रास्ता गुज़र चुका है. रास्ते में एक जगह रूककर हमने रात्रि भोजन कर लिया है. भोजन की खुमारी भी छाने लगी है. घर से निकलने में देर हो गयी थी मगर मैं अभी भी चुस्त हूँ और एक ही सिटिंग में सफ़र पूरा कर सकता हूँ. पत्नी को बैठे -बैठे बेचैनी होने लगी है सो रुकने को कहती हैं. होटल के स्वागत पर बैठी महिला दो बार अलग अलग तरह से पूछती है कि मैं डॉक्टर तो नहीं. जब उसे पक्का यकीन हो जाता है कि मैं नहीं हूँ तो झेंपती सी कहती है कि कई भारतीय लोग डॉक्टर होते हैं और अगर वह रसीद में उनके नाम से पहले यह विशेषण न लिखे तो वे खफा हो जाते हैं बस इसलिए मुझसे पूछा. मैं कहना चाहता हूँ कि मैं अगर डॉक्टर होता तो भी ध्यान नहीं देता मगर कह नहीं पाता क्योंकि कोई कान में चीखता है, "तभी तो हो नहीं." देखता हूँ तो पचीस साल पुराने सहकर्मी जनरंजन सरकार मुस्कराते हैं. जब भी मैं किसी परिवर्तन का ज़िक्र करता था, वे कहते थे कि यह काम नेताओं और अफसरों का है इसलिए कभी नहीं होगा. मैं कहता था कि यदि मैं नेता और अफसर होता तो ज़रूर करता. और जवाब में वे कहते थे, "इसीलिए तो तुम दोनों में से कुछ भी नहीं हो." मेरे कुछ भी न होने की बात सही थी इसलिए उनसे कुछ कह नहीं सका हाँ एक बार इतना ज़रूर कहा कि वे अगर अपने बेटे का नाम भारत रखें तो भारत सरकार पर बेहतर नियंत्रण रख सकेंगे.

होटलकर्मी अगली सुबह के मुफ्त नाश्ते का समय बताने लगती है और मैं पच्चीस साल पुराने भारत सरकार के समय से निकलकर २००९ में आ जाता हूँ.


18 comments:

  1. ऐसी टाइम मशीन से आप सकुशल लौट आये ?
    बधाई!!!!!!!!!!!!!!!!


    वैसे ऐसी खट्टी -मीठी यादें हों तो हमरा तो टाइम मशीन से निकलने का मन ही ना करे!!!

    ReplyDelete
  2. @ "तभी तो हो नहीं." देखता हूँ तो पचीस साल पुराने सहकर्मी जनरंजन सरकार मुस्कराते हैं. जब भी मैं किसी परिवर्तन का ज़िक्र करता था, वे कहते थे कि यह काम नेताओं और अफसरों का है इसलिए कभी नहीं होगा. मैं कहता था कि यदि मैं नेता और अफसर होता तो ज़रूर करता. और जवाब में वे कहते थे, "इसीलिए तो तुम दोनों में से कुछ भी नहीं हो."
    __________________________
    दुखती रग पर हाथ रख गए भैया और मुझे कहते हैं कि लिखने से दर्द कम नहीं होता !

    ReplyDelete
  3. टाइम मशीन का नाम सुन कर आज शाम आये एक फोन की याद आई। सत्रह साल पहले रिटायर्ड रेलवे बोर्ड के एक सदस्य का फोन था। हम सत्रह साल पहले के अपने संस्मरणों पर बतियाने लगे। अन्त में वे बोले - जीडी, मैं तो आजकल पास्ट में ही जीता हूं। मेरा प्रेजेण्ट और फ्यूचर में जीना तो बेयर मिनिमम है।
    पता नहीं क्यों आपकी पोस्ट पढ़ उनकी फिर याद हो आई!

    ReplyDelete
  4. ऐसे हिचकोले खाते हिंडोले पर हम रोज सवारी करते हैं...बहुत अच्छा लगा पढ़कर.

    ReplyDelete
  5. बहुत ही लाजवाब आलेख. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा लगा आप का यह संस्मरण.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. स्मृति गली हरी भरी !

    ReplyDelete
  8. Pata nahi kyon,30 kee umra tak dhyaan sirf aage ke samay par laga rahta hai aur uske baad jaise jaise aage badhte jaao man peechhe rahne me hee sukoon paata hai....

    ReplyDelete
  9. THANKS GIVING AUR AAPKE PURAANI YAADON KA SAFAR JAAN KAS ACHAA LAGA ... TIME MACHINE KA SAFAR LAJAWAAB HAI ...

    ReplyDelete
  10. टाइम मशीन अगर होती तो ......... रोज़ ही बचपन मे पहुच जाते

    ReplyDelete
  11. ऐसा होता है मेरी भी आज बचपन के एक मित्र से बात हुई ।

    ReplyDelete
  12. शब्द बहुत बारीक हैं कन्त्रोल प्लुस दबा कर देखा चला नहीं अगर रात मे आपकी पोस्ट पढनी होती तो असुविधा होती है। संस्मरण बहुत रोचक लगा ।शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. "तभी तो तुम दोनों नहीं हो.."
    हा हा

    रोचक संस्मरण अनुराग जी और उतनी ही खूबसूरत शैली भी । नंबर प्लेट का jkt होना मुझे भी चौंका गया।

    इस टाइम-मशीन पर अपने साथ हमें भी ले चलने का शुक्रिया!

    ReplyDelete
  14. टाईम मशिन की बात क्या खूब कही!!

    आपके लेखन शैली का कायल हूं. जीवंतता का वो माहौल बनता है, कि हम भी ट्रांसपोर्ट हो जाते हैं उस समय के स्लोट में और जुगाली करने लगते हैं, उन स्मृति क्षणों की...

    ReplyDelete
  15. जब कभी अपने गाँव जाता हूँ .. परिजन लोग कहते हैं मैं गाँव और परिजनों को भूल गया हूँ .... उन्हें बता नहीं पाता की मैं तो सप्ताह मैं कम से कम एक बार गाँव सपने मैं सजीव हो उठता है ... |

    हर प्रवासी अपने दिल मैं, मन मैं अपने वतन की याद को संजोये रहता है .... और ये याद पीड़ा भी देती है पर इस याद को अपने दिल से निकालता नहीं ...

    आपके सुन्दर वर्णन ने याद फिर ताजा कर दी ...

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।