Wednesday, January 26, 2011

अनुरागी मन - कहानी भाग 9

पूर्वकथा:
एक अलौकिक सुन्दरी बार-बार दिखती है, वासिफ के घर उससे एक नाटकीय भेंट भी होती है और आशाओं पर तुषारापात भी। हवेली के बाहर आकर वे खो गये थे। आंखों में लाली और हाथों में कुल्हाड़ियाँ लिये दो बाहुबली जब उनकी ओर बढ़े तो उन्हें साक्षात काल का स्पर्श महसूस हुआ। अचानक ही मूसलाधार वर्षा शुरू हो गयी। उनका पांव कीच भरे एक गड्ढे में पड़ा और धराशायी होने से पहले ही वे अपने होश खो बैठे।

पिछले अंक
भाग 1; भाग 2; भाग 3; भाग 4; भाग 5; भाग 6; भाग 7; भाग 8

अब आगे:

जब वीर की आंख खुली तो दादाजी के मंत्रोच्चार की जगह कान में किसी के सुबकने की आवाज़ पडी। उन्होने उठने का प्रयास किया तो दायें पंजे से कमर तक पीडा की एक असहनीय तरंग दौड गयी।

"हिलो मत बेटा" यह तो माँ की आवाज़ है। माँ को सिरहाने बैठा देखकर वीरसिंह दंग रह गये।

"मैं तो नई सराय में था माँ, घर कैसे आ गया? यह कोई सपना तो नहीं?"

"भगवान करे सपना ही हो बेटा" माँ ने आंचल से अपने आँसू पोंछते हुए अपूर्व शांति से कहा।

"अरे आप जग गये! अभी चाय लाती हूँ" यह तो रात वाली वही छोटी बच्ची थी। मगर वह तो नई सराय में थी। क्या वे सचमुच जग गये हैं या अभी कोई सपना देख रहे हैं? दिमाग पर ज़्यादा ज़ोर देने की ज़रूरत नहीं पडी। एक नज़र आसपास डालने भर से यह स्पष्ट हो गया कि वे दादाजी के घर में ही थे। उन्हें ध्यान आया कि रात में उस बच्ची के साथ पडोस के भट्ट जी थे। जब तक बच्ची उनके लिये चाय का प्याला लेकर वापस आयी उन्हें उसकी शक्ल भी पहचान में आने लगी थी।

"बरखा?" भट्ट जी की पोती निक्की का नाम यही था।

"जी हाँ, मैं! कल आप घर आने की बजाय वहाँ क्यों... "

"तुम अब घर जाओ बेटा, थोडा आराम करो, आंखों में कितनी नीन्द भरी है!" माँ ने उलाहना सा देते हुए चाय का प्याला बरखा के हाथ से छीन सा लिया।

बरखा चुपचाप कमरे से बाहर निकल गयी। मित्रों को आगे की बात बताते हुए वीर सिंह का गला रुन्ध आया था। माँ से पता लगा कि रात में उन्हें दादाजी के विश्वासपात्र पुत्तू और लखना गड्ढे से निकालकर लाये थे। टांग तो तब तक टूट ही चुकी थी। लेकिन वे दोनों अचानक वहाँ कैसे पहुंचे और फिर कुल्हाडी वालों का क्या हुआ? माँ यहाँ कैसे आयी? भट्ट जी रात में खाना किसके लिये ला रहे थे। निक्की ने घर आने के बजाय "वहाँ" जाने की बात क्यों की? और फिर निक्की के साथ माँ का अजीब सा व्यवहार! क्या इन सबको परी के बारे में पता चल गया है? धीरे-धीरे पता लगा कि अप्सरा का रहस्य अभी भी किसी पर खुला नहीं था।

परंतु उस भयावह रात की घटनायें जो अभी तक किसी चमत्कार सरीखी लग रही थीं, अब एक एक करके उघडनी आरम्भ हो गयी थीं। जब वीरसिंह और झरना की कहानी अपने दुखद मोड पर थी तभी किसी समय दादाजी को भयंकर हृदयाघात हुआ था। जब तक कोई समझ पाता, उनके प्राणपखेरू उड चुके थे। पिताजी उस समय पूर्वोत्तर के मोर्चे पर विद्रोही आतंकियों से जूझ रहे थे। उन्हें खबर तो कर दी गयी थी मगर उनके समय पर पहुंचने की आशा नहीं थी। वीर के लिये सारी नई सराय में ढुंढेरा पड रहा था। माँ को अपने मायके से यहाँ तक आने में दो घंटे लगे थे। वे दादाजी के दुख के साथ वीर के लिये भी चिंतित थीं। वीर की अनुपस्थिति में दादीजी की इच्छानुसार देर किये बिना शवदाह पुत्तू और लखना के हाथों कराया गया था। वही दोनों दादाजी द्वारा अभी भी पहनी हुई अंगूठियों के लिये रात में चौकीदारी कर रहे थे जब वीर अनजाने ही भटककर श्मशानघाट पहुंचे थे। आखिर दादा ने अपनी चिता पर से अपने प्यारे पोते को देख ही लिया।

[क्रमशः].

15 comments:

  1. कहानी रोचक मालूम हो रही है। पूर्व कथा विस्तार में पढ़ना पड़ेगा। अगले भाग के लिए उत्सुकता भी बढ़ गई है।

    ReplyDelete
  2. मुझे लग रहा है जैसे इससे पहले की कड़ी मुझसे छूट गई है, ऐसा होना तो नहीं चाहिये। जाना पड़ेगा जी इतिहास खंगालने। बहुत गैप डाल दिया न आपने इस बार, शायद यही हो वजह।

    ReplyDelete
  3. दो माह पुरानी कहानी पुनः रोचकता जगा गयी।

    ReplyDelete
  4. अब इसे जल्दी से पूरा करें...

    ReplyDelete
  5. अपने चाहनेवालों की वफा की परीक्षा लेने का यह (पुरानी कडियॉं पढवाने का) तरीका तो कोई क्रूर प्रेमी भी नहीं अपनाता होगा। हम आनेवाले कल में झॉंकना चाह रहे हैं और बीते हुए कल में गोता लगाने की शर्त रख रहे हैं।

    हमारी खता मुआफ करें और जिज्ञासा/रोमांच का समापन करें। अब नहीं रहा जा रहा।

    ReplyDelete
  6. बीच से कहानी से जुड़ना नहीं हो पाएगा.. इसलिये बिना पढ़े यह कमेंट दे रहा हूँ.. पूरा पिछला देख लूम फिर आऊँगा!!

    ReplyDelete
  7. अभी पिछली कहानियां भी पढ कर आता हुं तब तक यह टिपण्णी सम्भाल कर रखे, धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. बहुत दिनों बाद आयी दूसरी कड़ी मगर रोचकता और सस्पेंस अभी भी बरक़रार है !

    ReplyDelete
  9. मैंने भी ६ भाग के बाद पढ़ा नहीं है ...बहुत दिनों बाद खुद अपना ब्लॉग अपडेट कर पाई हू ... कहनि रोचक होते जा रही है...

    ReplyDelete
  10. वीर अवसाद /बेखुदी के क्षणों में भी दादा जी को अंतिम प्रणाम करने पहुंचे ! ये वो समय है जहां देवत्व पर विश्वास करने की इच्छा होती है !

    बरखा और मां के मसले पर कुछ रहस्य की परते हैं देखें अगली कड़ी में क्या उजागर हो ?

    ReplyDelete
  11. 9 8 7 6 5 4 3 2 1

    IS SE PAHLE KE 10 AA JAYE PICHLE SARE
    PATTE KHOLNE HONGE......TAB TAK KE LIYE...........

    ANURAGI MAN KO ANURAGI PRANAM.

    ReplyDelete
  12. एकदम चंद्रकांता संतति की तरह ....

    रहस्यमयी रोचक ...

    लेकिन एक झुंझलाहट भी भर गयी है मन में...मुझे न ,यूँ टुकड़ों में कथा पढना बिलकुल पसंद नही ...आप केवल यह बता दें कि कितने भाग में यह कथा समाप्त होगी?? जब सारी कड़ियाँ आप पोस्ट कर देंगे तो इक्कट्ठे एक बार में पढूंगी......

    ReplyDelete
  13. थोडा जल्दी-जल्दी पोस्ट कीजिये इसे. मैं ही नहीं सभी कह रहे हैं :)

    ReplyDelete
  14. पहलीबार आपसे और आपकी कहानी से जुड़ा हूँ कहानी काफ़ी रोचक मालूम हो रही है ....

    ReplyDelete
  15. देर बाद किश्त आती है तो पीछे जाना पडता है। इस अंक का पता नही चला था। रोचक है अब अगला अंक पढती हूँ। शुभकामनायें।

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।