Sunday, January 4, 2009

वह कौन था - कहानी

=======================

“कल्लर नहीं रहा!"

राजेश का फ़ोन था। वह हमेशा कम शब्दों में बात करता है, वैसे ही बिना किसी भूमिका के बोला। कल्लर मेरा और राजेश का सहकर्मी था। राजेश को हिन्दी बहुत अच्छी तरह नहीं आती है। इसलिए मुझे लगा कि शायद वह कल्लर के नौकरी छोड़ने की बात कर रहा है। यह तो मुझे पहले से ही पता था कि कल्लर यह नौकरी छोड़कर एक विदेशी बैंक में चला गया था।

"वह नौकरी छोड़ कर दिल्ली गया है, मुझे पता है" मैंने कहा।

"नहीं, कल्लर इस नो मोर अलाइव। ही इज डैड। उसको आतंकवादियों ने मार दिया।"

"दिल्ली में कौन से आतंकवादी हैं?" मैंने पूछा। दिल राजेश की बात पर यकीन करने को तैयार ही न था।

"उसको कश्मीर में मारा है, मैं लंच में तेरे दफ्तर आ रहा हूँ, सब बताता हूँ" राजेश ने मानो मेरे अविश्वास को पढ़ लिया था।

मेरा दिल राजेश की बात मानने को बिल्कुल तैयार नहीं था। वैसे भी कल्लर के कश्मीर जाने की कोई वजह नहीं थी। कुछ ही दिन पहले तो वह अपनी नई नौकरी के लिए दिल्ली गया था - इतनी जल्दी यह सब। और फ़िर भगवान् भी तो हैं। क्या वह कुछ नहीं देखते? राजेश को ज़रूर कोई गलतफहमी हुई है।

हम तीनों ने ही यह नौकरी सौ के लगभग युवाओं के साथ बंगलोर में एक ही दिन शुरू की थी। लगभग एक महीने का प्रशिक्षण लिया और फ़िर उसके बाद सब देश भर में अलग-अलग शाखाओं में बिखर गए। कल्लर को पहली बार वहीं देखा था। टी ब्रेक में और कभी उसके बिना भी वह और कुछ और लड़के धूम्रपान के लिए कक्ष से बाहर आकर खड़े हो जाते थे। एक दिन मैंने उसे लैशिवॉन को समझाते हुए सुना, "सिगरेट पीने से लड़कियों पर बहुत अच्छा इम्प्रेशन पड़ता है।" उसके विचार, दोस्त, प्राथमिकताएं, पृष्ठभूमि, सभी कुछ मुझसे एकदम मुख्तलिफ थे। हम दोनों में दोस्ती होने की कोई संभावना नहीं थी। हाँ, दुआ-सलाम ज़रूर होती थी, वह तो सबसे ही होती थी।

प्रशिक्षण के दौरान जिन दो-तीन लोगों से मेरी मित्रता हुई, राजेश उनमें से एक था। उम्र में मुझसे काफी बड़े राजेश को इस नौकरी में आरक्षण का लाभ मिला था वरना शायद वह आयु सीमा से बाहर होता। मैं उस बैच का सबसे छोटा अधिकारी था। कुछ ही दिनों के साथ में मैंने राजेश की प्राकृतिक सदाशयता को पहचान लिया और हम लोग मित्र बन गए।

जान-पहचान बढ़ने पर पता लगा कि वह झारखंड के आदिवासी अंचल से था, मिशनरी स्कूलों में पढा था। जनसेवा का जज्बा बचपन से ही दिल में था इसलिए पादरी बनकर दबे कुचले आदिवासियों की सेवा को ही लक्ष्य बनाकर एक धार्मिक संस्था से जुड़ गया। उसका हर कदम पादरी बनने की दिशा में ही चला। पश्चिमी अध्यात्म, मसीही चंगाई आदि में शिक्षा चलती रही। अविवाहित रहने का संकल्प लिया। अपने बैंक खाते बंद करके कोई निजी धन न रखने की चर्च की बंदिश को माना। सारा भारत घूमा और समय आने पर उसने आदिवासी क्षेत्रों में चल रहे मिशनरी स्कूलों में प्राचार्य का काम भी किया। वह अपनी संस्था में जितना अधिक आगे बढ़ता गया, उसका परोपकारी मन उतना ही घुटने लगा। अपने देशी और विदेशी वरिष्ठ अधिकारियों के मन, वचन और कर्म में उसे बड़े विरोधाभास दिखने लगे। उसके किसी भी सुझाव को माना नहीं जाता था। यहाँ तक कि उसकी कई बातों को तो विधर्मी का ठप्पा लगाने की कोशिश भी की गयी। बिना बैंक-खाते वाले लोगों को उसने दान के धन पर हर तरह का भोग-विलास करते पाया और अविवाहित रहने का प्रण करने वालों को कामना के वशीभूत होते भी देखा।

जनोत्थान की उसकी जिद ने संस्था के अन्दर न सिर्फ़ अलोकप्रिय ही बनाया बल्कि बाद के दिनों में चर्च के लेखांकन में हुई कई छेड़छाड़ उस पर थोपी गयीं। जब पुराने अभिलेखागार में शोर्ट-सर्किट से लगी मामूली सी आग का ज़िम्मा भी उस पर लादकर पुलिस में रपट लिखायी गयी तो उसने उस संस्था से बाहर आने का मन बना लिया। नौकरी के लिए उम्र निकल चुकी थी और अपने नाम से जेब में एक धेला भी न था। ऐसे में उसने अपनी शिक्षा और आदिवासी प्रमाणपत्र का उपयोग कर के यह परीक्षा दी और चुनकर हम सबके साथ प्रशिक्षण के लिए आ गया।
[क्रमशः]

Saturday, January 3, 2009

पिट्सबर्ग का पानी [इस्पात नगरी ६]

इस्पात नगरी पिट्सबर्ग पर यह नई कड़ी मेरे वर्तमान निवास स्थल से आपका परिचय कराने का एक प्रयास है। अब तक की कड़ियाँ यहाँ उपलब्ध हैं: खंड 1; खंड 2; खंड 3; खंड 4; खंड 5
[सभी चित्र अनुराग शर्मा द्वारा. हरेक चित्र पर क्लिक करके उसका बड़ा रूप देखा जा सकता है.]



[प्रदूषण से काले पड़े इस गिरजाघर के पत्थरों का मूल रंग ही खो गया है]

मैंने अब तक पिट्सबर्ग के बारे में जो लिखा, आपने पसंद किया इसका धन्यवाद। पिछली बार बातों में ही ज़िक्र आ गया था माउंट वॉशिंग्टन (कोल हिल) का। वहाँ से कोयला खनन होता था और पहले तो स्थानीय फोर्ट पिट में प्रयोग में आ जाता था और बाद में मिलों में प्रयुक्त होने लगा और नदी परिवहन द्वारा दूसरे क्षेत्रों को निर्यात भी होने लगा। द्विवेदी जी ने इस बात पर हैरानी व्यक्त की है कि प्रदूषण फैलाने वाले उद्योग चीन क्यों चले गए। बहुत से कारण हैं - कुछ मैं समझ सकता हूँ, कुछ का अंदाज़ लगा सकता हूँ और कुछ मेरी समझ और अंदाज़ के बाहर के भी हो सकते हैं। जितना मैं जानता हूँ उसके हिसाब एक पंक्ति का उत्तर है, "क्योंकि अमेरिका में लोग अपनी जीवन शैली चुनने को स्वतंत्र हैं जबकि चीन जैसे कम्युनिस्ट-तानाशाही में गरीब, मजबूर और मजलूम जनता को वह सब चुपचाप सहना पड़ता है जो कि साम्यवादी-पूंजीपति वर्ग (याने कि सरकार, नीति-निर्धारक नेता, अधिकारी और शक्तिशाली धनपति वर्ग) अपने निहित स्वार्थ के लिए उन पर थोपता है।" शायद आपको याद हो कि ओलंपिक खेलों के दौरान तिब्बत में दमन करने के अलावा चीन ने बहुत से कारखाने भी अस्थायी रूप से बंद कर दिए थे ताकि विदेशी मेहमानों को वहाँ का प्रदूषण दिखाई न दे।

[धुंए से काला पडा हुआ पिट्सबर्ग विश्व विद्यालय का "कथीड्रल ऑफ़ लर्निंग" भवन]

विस्तार से कहूं तो जब अमेरिका के लोगों ने प्रदूषण के दुष्प्रभावों को पहचानना शुरू किया तो यहाँ पर बहुत से परिवर्तन आए। प्रदूषण रोकने के लिए कठोर नियम बने और उनका पालन न कर सकने वालों को अपनी दुकानें समेटनी पड़ीं। नयी जानकारियाँ आने पर तम्बाकू आदि पर आधारित व्यवसायों का नीति-नियंत्रण शुरू हुआ, अनेकों दवाओं पर प्रतिबन्ध लगे, नए बाँध बनने बंद हो गए, और चेर्नोबिल आदि की दुर्घटनाओं के बाद से तो कोई नया परमाणु बिजलीघर भी नहीं बना। प्रजातंत्र में धर्महीन साम्यवाद, अक्षम रजवाडों या निरंकुश सैनिक शासनों की तरह विरोधियों पर टैंक चलाने की कोई गुंजाइश नहीं है।

शायद इन्हीं सुधारों का परिणाम है कि घर से बाहर निकलते ही मैं हिरणों के झुंड को बस्ती के बीच से सड़कों पर होते हुए गुज़रता हुआ देख पाता हूँ। सड़कों के किनारे घास के बड़े समतल टुकडों पर अन्य बहुत से पक्षियों के साथ-साथ कृष्ण-हंस (सुरखाब) के झुंड के झुंड बैठे हुए दीखते हैं। घर से दफ्तर आते-जाते प्रदूषण-रहित साफ़ नीला आसमान दिखाई दे तो अच्छा लगता है। वैसे भी पिट्सबर्ग में साल में सिर्फ़ ९५ दिन ही आसमान खुला होता है, जैसे कि आज था वरना तो वर्षा या बर्फ लगी ही रहती है। नीचे के दृश्य में देखिये बर्फ से ढँकी हुई एक गली का चित्र:

माफ़ कीजिए, आज मेंने जल-परिवहन के बारे में लिखने का सोचा था मगर बात प्रदूषण से आगे न जा सकी। अगली कड़ी में मैं आपको बताऊंगा पिट्सबर्ग के अनोखे इन्क्लाइन परिवहन की और उसके बाद यहाँ की अनोखी उभयचर बस-नौका (डक=बत्तख) के बारे में। और उसके बाद किसी दिन यहाँ के भारतीय जीवन की - यानी मन्दिर, भारतीय भोजन, गीत-संगीत और पन्द्रह अगस्त की। तब तक के लिए - आज्ञा दीजिये।

==========================================
इस्पात नगरी से - अन्य कड़ियाँ
==========================================

Friday, January 2, 2009

आग और पानी [इस्पात नगरी ५]


इस्पात नगरी के धरातल के नीचे छिपकर बहने वाली ऐक्विफर नदी और सतह के ऊपर की त्रिवेणी की चर्चा मैंने इस श्रंखला के चौथे खंड में की थी. चार नदियों वाले इस नगर में पानी की बहुतायत है. जैसे कि हम सब जानते हैं, जल के एक अणु में हाइड्रोजन के दो और ऑक्सिजन का एक अणु होता है. एक जलने वाला और दूसरा जलाने वाला, कोई आश्चर्य नहीं कि शायरों ने पानी और आग पर काफी समय लगाया है. पिट्सबर्ग सचमुच में आग और पानी का अनोखा संगम है. यहाँ की नदियों में जितना पानी और बर्फ है, यहाँ की पहाडियों में उतना ही कोयला है. इसीलिये शुरूआत से ही यहाँ खनन एक बहुत बड़ा व्यवसाय है. पिट्सबर्ग को इस्पात नगरी का दर्जा दिलाने में कोयले और पानी की बहुतायत का बहुत बड़ा योगदान रहा है. नदियाँ खनिजों के परिवहन का काम करती थी. और उनके किनारे खनन, परिवहन और भट्टियाँ बनीं.
[पुरानी इस्पात मीलों के उपकरण आजकल माउंट वॉशिंगटन की तलहटी में नदी के किनारे प्रदर्शन के लिए रख दिए गए हैं.]


[तीस-चालीस साल पहले तक माउंट वॉशिंगटन का यह हरा-भरा रमणीक पर्वत सिर्फ़ कोयले का एक बदसूरत और दानवाकार पहाड़ सा था.]

पुराने पिट्सबर्ग के बारे में एक प्रसिद्ध गीत है "पिट्सबर्ग एक पुराना और धुएँ से भरा नगर है..." एक ज़माने में सारा शहर कोयले के धुएँ से इस तरह ढंका रहता था कि नगर की एक ऊंची इमारत पर एक बड़ा सा टॉवर लाल बत्तियों की दूर से दिखने वाली रोशनी में जल-बुझकर मोर्स कोड में "पिट्सबर्ग" कहता रहता था. कारखाने चीन चले जाने के बाद प्रदूषण तो अब नहीं रहा है मगर वह टावर आज भी उसी तरह जल-बुझकर "पिट्सबर्ग" कहता है. बलुआ पत्थरों से बनीं शानदार इमारतें भट्टियों से दिनरात निकलने वाले धुएँ से ऐसी काली हो गयी थीं कि वही उनका असली रंग लगता था. आजकल एक-एक करके बहुत सी इमारतों को सैंड-ब्लास्टिंग कर के फ़िर से उनके मूल रूप में लाया जा रहा है. .

[क्लिंटन भट्टी पिट्सबर्ग ही नहीं बल्कि विश्व की सबसे पहली बड़ी भट्टी है.]


[क्लिंटन भट्टी सन १९२७ में सेवानिवृत्त हो गयी.]


[पुराने दिनों की यादें आज भी रुचिकर हैं.]



[पेन्सिल्वेनिया का कोयला उद्योग सन १७६० में माउंट वॉशिंगटन से ही शुरू हुआ था. ज्ञातव्य है कि १७५७ में अँगरेज़ हमारी धरती पर प्लासी की लड़ाई लड़ रहे थे.]
==========================================
इस्पात नगरी से - अन्य कड़ियाँ
==========================================
[सभी चित्र अनुराग शर्मा द्वारा. हरेक चित्र पर क्लिक करके उसका बड़ा रूप देखा जा सकता है.]