Friday, January 2, 2009

आग और पानी [इस्पात नगरी ५]


इस्पात नगरी के धरातल के नीचे छिपकर बहने वाली ऐक्विफर नदी और सतह के ऊपर की त्रिवेणी की चर्चा मैंने इस श्रंखला के चौथे खंड में की थी. चार नदियों वाले इस नगर में पानी की बहुतायत है. जैसे कि हम सब जानते हैं, जल के एक अणु में हाइड्रोजन के दो और ऑक्सिजन का एक अणु होता है. एक जलने वाला और दूसरा जलाने वाला, कोई आश्चर्य नहीं कि शायरों ने पानी और आग पर काफी समय लगाया है. पिट्सबर्ग सचमुच में आग और पानी का अनोखा संगम है. यहाँ की नदियों में जितना पानी और बर्फ है, यहाँ की पहाडियों में उतना ही कोयला है. इसीलिये शुरूआत से ही यहाँ खनन एक बहुत बड़ा व्यवसाय है. पिट्सबर्ग को इस्पात नगरी का दर्जा दिलाने में कोयले और पानी की बहुतायत का बहुत बड़ा योगदान रहा है. नदियाँ खनिजों के परिवहन का काम करती थी. और उनके किनारे खनन, परिवहन और भट्टियाँ बनीं.
[पुरानी इस्पात मीलों के उपकरण आजकल माउंट वॉशिंगटन की तलहटी में नदी के किनारे प्रदर्शन के लिए रख दिए गए हैं.]


[तीस-चालीस साल पहले तक माउंट वॉशिंगटन का यह हरा-भरा रमणीक पर्वत सिर्फ़ कोयले का एक बदसूरत और दानवाकार पहाड़ सा था.]

पुराने पिट्सबर्ग के बारे में एक प्रसिद्ध गीत है "पिट्सबर्ग एक पुराना और धुएँ से भरा नगर है..." एक ज़माने में सारा शहर कोयले के धुएँ से इस तरह ढंका रहता था कि नगर की एक ऊंची इमारत पर एक बड़ा सा टॉवर लाल बत्तियों की दूर से दिखने वाली रोशनी में जल-बुझकर मोर्स कोड में "पिट्सबर्ग" कहता रहता था. कारखाने चीन चले जाने के बाद प्रदूषण तो अब नहीं रहा है मगर वह टावर आज भी उसी तरह जल-बुझकर "पिट्सबर्ग" कहता है. बलुआ पत्थरों से बनीं शानदार इमारतें भट्टियों से दिनरात निकलने वाले धुएँ से ऐसी काली हो गयी थीं कि वही उनका असली रंग लगता था. आजकल एक-एक करके बहुत सी इमारतों को सैंड-ब्लास्टिंग कर के फ़िर से उनके मूल रूप में लाया जा रहा है. .

[क्लिंटन भट्टी पिट्सबर्ग ही नहीं बल्कि विश्व की सबसे पहली बड़ी भट्टी है.]


[क्लिंटन भट्टी सन १९२७ में सेवानिवृत्त हो गयी.]


[पुराने दिनों की यादें आज भी रुचिकर हैं.]



[पेन्सिल्वेनिया का कोयला उद्योग सन १७६० में माउंट वॉशिंगटन से ही शुरू हुआ था. ज्ञातव्य है कि १७५७ में अँगरेज़ हमारी धरती पर प्लासी की लड़ाई लड़ रहे थे.]
==========================================
इस्पात नगरी से - अन्य कड़ियाँ
==========================================
[सभी चित्र अनुराग शर्मा द्वारा. हरेक चित्र पर क्लिक करके उसका बड़ा रूप देखा जा सकता है.]

15 comments:

  1. इसे कहते हैं चिट्ठा खोलना ! ब्यौरेवार रोचक ढंग से जानकारी दी आपने !

    ReplyDelete
  2. पिट्सबर्ग की रोचक जानकारी के लिए आभार। आशा है आगे भी यह सिलसिला चलता रहेगा।

    ReplyDelete
  3. रोचक जानकारी है ..आगे भी बताते रहे

    ReplyDelete
  4. अदभुत जानकारी पिट्स्बर्ग के बारे मे. असली कहानी आपकी श्रन्खला से प्राप्त हुई. बहुत धन्य्वाद.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. अच्छी जानकारी है....

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर ढंग से आप ने पिट्सबर्ग के बारे लिखा.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. बहुत सार्थक जानकारी....लगभग पाँच छे बार यहाँ जाना हुआ है और हर बार इसे देखने घूमने का नया अनुभव रहा....
    नीरज

    ReplyDelete
  8. रोचक जानकारी की रोचक प्रस्तुति के लिए आभार.बड़ा सुखद रहा सब पढ़ना,जानना .

    ReplyDelete
  9. हैरानी है कि कारखाने चीन चले गए!
    क्यों?

    ReplyDelete
  10. bahut achcha laga padhkar.aap se aisi hi jaankari ki ummeed hai

    ReplyDelete
  11. बहुत रोचक वर्णन,आगे भी आपसे यही उम्मीद है.

    ReplyDelete
  12. Aisa laga jaise saamne se gujar raha hun..jalan ho rahi hai aapse..kaafi khoobsurat shahar hai.aor haan
    naye saal ki dhero shubhkaamnaye.

    ReplyDelete
  13. ये सब इतना सविस्तार पता नहीँ था शुक्रिया अनुराग भाई यह शृँखला बहुत महत्त्वपूर्ण हैँ - लावण्या

    ReplyDelete
  14. बहुत ही अच्छी श्रृंख्ला है यह..आप के शहर के बारे में जानकारी रोचक लगी|
    आभार।

    ReplyDelete
  15. सुन्‍दर जानकारी । चित्र तो खुद बोल रहे हैं । नयनाभिराम ।

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।