Saturday, January 17, 2009

कुछ शेर और

पिछली पोस्ट में पाण्डेय जी ने उत्सुकता व्यक्त की थी कि शून्य से नीचे के तापक्रम पर रेल चलती है। बात तो सही है। रेल खूब चल रही है। और हाँ, डिग्री सेंटीग्रेड में इस समय पिट्सबर्ग का तापमान शून्य से १९ अंश नीचे है। आज दिन में थोडा सा पैदल चलना पडा। ज़रा देर के लिए हाथ दस्ताने से बाहर निकाला तो लगा कि कुछ देर अगर बाहर रहा तो शायद कट कर गिर ही जायेगा। मगर ट्रेन तो चल रही है. ज़िक्र आया है तो बताता चलूँ कि पिट्सबर्ग की स्थानीय ट्राम सेवा को टी (T) कहते हैं। बाद में कभी विस्तार से सचित्र जानकारी दूंगा।

पिछली बार आपने मेरे "चंद अश'आर" पसंद किए, इसका आभारी हूँ। आपकी हौसला-अफजाई का फायदा उठाते हुए कुछ और शेर प्रस्तुत कर रहा हूँ, आशा है आपको पसंद आयेंगे।

जब भी मिलते हैं, नए ज़ख्म दिए जाते हैं,
उसपे शिकवा ये कि हम दूर हुए जाते हैं।
-x-X-x-

बरबाद ही होंगे मेरे जज़्बात,
यहाँ नहीं ठहरी कुछ सुनने की बात।
-x-X-x-

कितना ढूँढा पर हाथ न आया, प्यार का एक मिसरा भी
कहने को उनके ख़त में, बहुत कुछ लिखा था।
-x-X-x-

शहर सुनसान सही, राह वीरान सही,
रात लम्बी ही सही, सहर तो होनी ही है।
-x-X-x-

27 comments:

  1. ट्रेन ्के विवण का इन्तजार रहेगा.


    शहर सुनसान सही, राह वीरान सही,
    रात लम्बी ही सही, सहर तो होनी ही है।

    आज के सारे शेर लाजवाब हैं और आखिरी वाले को गुनगुना रहा हूं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. Sundar rachana hai, bahut sundar....
    Vaha ki tram ko T kahate hai aur yaha Delhi me Metro kahate hai.....aage aasha hai aur jankari milti rahegi..

    Regards...

    ReplyDelete
  3. उम्दा शेर अनुराग भाई. पिछली बार के शेर भी बहुत बढ़िया थे ..... यूं ही छोटे छोटे doses देते रहें ....

    ReplyDelete
  4. जब भी मिलते हैं, नए ज़ख्म दिए जाते हैं,
    उसपे शिकवा ये कि हम दूर हुए जाते हैं।

    bahut acche sher hain...

    ReplyDelete
  5. pahle, teesre aur chauthe me bahut anand aaya.

    ReplyDelete
  6. शहर सुनसान सही, राह वीरान सही,
    रात लम्बी ही सही, सहर तो होनी ही है।

    बहुत उम्दा है जी वाह वाह वाह।

    ReplyDelete
  7. pahle, teesre aur chauthe me jyada anand aaya.

    ReplyDelete
  8. कितना ढूँढा पर हाथ न आया, प्यार का एक मिसरा भी
    कहने को उनके ख़त में, बहुत कुछ लिखा था।

    ये वाला शेर तो लाजवाब है... बहुत खूब.. बहुत ही उम्दा!

    ReplyDelete
  9. जब भी मिलते हैं, नए ज़ख्म दिए जाते हैं,
    उसपे शिकवा ये कि हम दूर हुए जाते हैं।

    अनुराग जी
    बेहतरीन शेर है सब के सब और ये दो कतल है

    ReplyDelete
  10. कितना ढूँढा पर हाथ न आया, प्यार का एक मिसरा भी
    कहने को उनके ख़त में, बहुत कुछ लिखा था।
    goya ki aap bhi ye shouk rakhte hai.

    ReplyDelete
  11. सहर तो होनी ही है. बहुत उम्दा.सभी शेर अच्छे लगे. ताऊ की तरह ही ट्रेन के विवरण के लिए हम प्रतीक्षा में हैं.

    ReplyDelete
  12. इरशाद -इरशाद !

    ReplyDelete
  13. जब भी मिलते हैं, नए ज़ख्म दिए जाते हैं,
    उसपे शिकवा ये कि हम दूर हुए जाते हैं। ye bahut acchha hai

    ReplyDelete
  14. आपका गद्य और आपके शेर, दोनों ही सुन्‍दर हैं।
    आज के अशआर में यह शेर वेदनाभरा अनुभव हुआ-

    कितना ढूँढा पर हाथ न आया, प्यार का एक मिसरा भी
    कहने को उनके ख़त में, बहुत कुछ लिखा था।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर शेर,
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. कितना ढूँढा पर हाथ न आया, प्यार का एक मिसरा भी
    कहने को उनके ख़त में, बहुत कुछ लिखा था।

    sab se achcha sher yah laga...bahut sundar!

    ReplyDelete
  17. वाह,क्या बात है।

    ReplyDelete
  18. कितना ढूँढा पर हाथ न आया, प्यार का एक मिसरा भी
    कहने को उनके ख़त में, बहुत कुछ लिखा था।

    पिछले दिनों कुछ ऐसा ही मैं सोच रहा था, मगर कवि नही हूं इसलिये शब्दों में , बहर में गढ़ नही पाया .

    मेरे एक और मित्र ने पाती लिखी है मुझको ,मुझसे गिले शिकवे ना करते हुए मुझसे नाराज़गी ज़ाहीर की है, इधर उधर के तानों से.

    उसे प्रेम से ही बस में करने का मन है, क्योंकि तर्क में वह माहिर है. अब बस ये शेर ही काफ़ी है उसके खत के जवाब देने के लिये.

    इसलिये आप से उधार ले रहा हूं ये कविता/शेर, और वादा है कि लौटाऊंगा.कैसे ये आप तय करें. शुक्रिया

    ReplyDelete
  19. जब भी मिलते हैं, नए ज़ख्म दिए जाते हैं,
    उसपे शिकवा ये कि हम दूर हुए जाते हैं।

    -बहुत पसंद आया.

    टोरंटो में भी -३५ पर खुले में गो ट्रेन चलती रहती है. टेक्नोलॉजी कौन सी है, इसकी जानकारी तो नहीं है.

    आपके टी ट्रेन वाले आलेख का इन्तजार रहेगा.

    ReplyDelete
  20. सुन्दर शेर। ट्रेन विवरण कब आयेगा?

    ReplyDelete

  21. बड़े अच्छे अश-आर बन पड़े हैं,
    कुछ नोस्टैल्ज़िआ की झलक भी देते हैं,
    यदि मैं गलत नहीं हूँ, तो !

    ReplyDelete
  22. रोचक! रेल के बारे में जिज्ञासा का कारण था कि पटरियां इतना तापक्रम डिफरेंशियल बिना टूटे कैसे झेल लेती हैं।
    मेण्टिनेन्स प्रेक्टिस में कुछ अलग तरीका होगा।

    ReplyDelete
  23. एक सुंदर रचना सामने आई है, धन्यवाद।

    ReplyDelete
  24. आपके शेर हमारे जैसे ही बहुत से लोगों के अनुभवों और दु:खों को अभिव्‍यक्ति देते से लगते हैं इसलिए इनसे एक जुडाव सा महसूस होता है। लिखते रहिए ताकि यह जुडाव और प्रगाढ तथा स्‍थायी हो सके ।

    ReplyDelete
  25. कितना ढूँढा पर हाथ न आया, प्यार का एक मिसरा भी
    कहने को उनके ख़त में, बहुत कुछ लिखा था।
    हमेशा की तरह रोचक गंभीर सरस रचना

    ReplyDelete
  26. शहर सुनसान सही, राह वीरान सही,
    रात लम्बी ही सही, सहर तो होनी ही है।

    पंक्तियॉं कितनी प्रभावशाली तरीके से हमें नित नई इच्‍छा से जीवन जीने का जज्‍बा दे रही हैं । इस सुन्‍दर कृति के लिए बधाई एवं धन्‍यवाद ।
    शेखर

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।