Thursday, September 4, 2008

टीस - एक कविता

(अनुराग शर्मा)

एक टीस सी
उठती है
रात भर
नींद मुझसे
आँख मिचौली करती है
मन की अंगुलियाँ
बार-बार
खत लिखती हैं
तुम्हें
दीवानी नज़रें
हर आहट पे
दौड़ती हैं
दरवाजे की तरफ़
शायद
ये तुम होगे
फिर लगता ह़ै
नहीं
तुम तो
अपनी दुनिया मे
मगन हो
अपने ही
रंग मे रंगे
अपने
सुख दुख मे खोए
अपनों से घिरे
मेरे अस्तित्व से
बेखबर
मैं समझ नहीं पाता
कि
सिर्फ मेरे नसीब में
अकेलापन
क्यों है
अकसर
एक टीस सी
उठती है। 

24 comments:

  1. bahut dard bhari, dil ko choo dene wali,bahut khoob Anurag ji.

    ReplyDelete
  2. विरह की ,अकेलेपन की टीस .सुंदर लफ्जों में बुनी है आपने ..

    ReplyDelete
  3. सिर्फ मेरे नसीब में
    अकेलापन
    क्यों है
    अकसर
    एक टीस सी
    उठती है।

    लक्षण दुनियादारी के हिसाब से ठीक नही दिखते !
    पर ऐसे भाव गहन मौन में उठते हैं ! मुझे तो आइडिया
    बेहतरीन लगा ! शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  4. हमको आपकी यह रचना बेहद पसंद आई !
    बहुत शुभकामनाएं एवं धन्यवाद !

    ReplyDelete
  5. एक टीस सी
    उठती है
    रात भर
    नींद मुझसे
    आँख मिचौली करती है

    क्या करे बंधू ? हमारी पन्डताइन जबसे मायके गई है !
    नींद ने भी आँख मिचोली करना बंद कर दिया है ! बहुत
    गहरा गई है ! कोई राय नही दूंगा ! वरना .... से पिट
    सकता हूँ ! :)

    ReplyDelete
  6. फिर लगता ह़ै
    नहीं
    तुम तो
    अपनी दुनिया मे
    मगन हो

    गजब का संयोजन है शब्दों में ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. सिर्फ मेरे नसीब में
    अकेलापन
    क्यों है
    अकसर
    एक टीस सी
    उठती है।
    बेहतरीन लगा . शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  8. ये अकलेपन वाला अंदाज भी अच्छा रहा !

    ReplyDelete
  9. अरे मालिक इजाजत किस बात की. आज्ञा दिया करें ! जरूर लिखिए.

    ReplyDelete
  10. Beautiful composition, full of emotions and feelings, liked reading it.
    few of my words :
    लम्हा-लम्हा तेरे साये को सीने से लगाया मैंने,
    दिल मे उठी टीस को आज फिर समझाया मैंने.
    ख्याब बन कर मेरी आँखों में समाने वाले,
    तेरे यादों की टीस से महफिल को सजाया मैंने.

    Regards

    ReplyDelete
  11. सुंदर शब्द संयोजन अनुराग जी.




    ------------------------------------------
    एक अपील - प्रकृति से छेड़छाड़ हर हालात में बुरी होती है.इसके दोहन की कीमत हमें चुकानी पड़ेगी,आज जरुरत है वापस उसकी ओर जाने की.

    ReplyDelete
  12. मन की अंगुलियाँ
    बार-बार
    खत लिखती हैं
    तुम्हें
    दीवानी नज़रें
    हर आहट पे
    दौड़ती हैं
    दरवाजे की तरफ़
    शायद
    ये तुम होगे

    wah wah

    ReplyDelete
  13. मन की अंगुलियाँ
    बार-बार
    खत लिखती हैं
    ye bahut acchha hai...

    ReplyDelete
  14. अति सुंदर....भावपूर्ण रचना...वाह.
    नीरज

    ReplyDelete
  15. अति सुंदर....भावपूर्ण रचना...वाह.
    नीरज

    ReplyDelete
  16. मैरे पास भी ऐसी ही फीलिंग्स हैं पर ऐसे शब्द नहीं हैं।

    ReplyDelete
  17. किसी का साथ देने की कोशिश करें,
    अकेले नहीं रहेंगै।

    ReplyDelete
  18. khoobsurat....
    bahut khoobsurat..
    dil khush ho gaya padh kar itni madhur rachna....

    ReplyDelete
  19. एक टीस सी
    उठती है
    रात भर
    नींद मुझसे
    आँख मिचौली करती है
    बहुत ही सुन्दर लिखा है। बधाई

    ReplyDelete
  20. निरवता के ताप से ही आख से आंसु ढलका करते "
    इसी टीस के छोटे बादल शब्दो से फ़िर झलका करते "

    ReplyDelete
  21. सिर्फ मेरे नसीब में
    अकेलापन
    वाह क्या शब्द हे. बहुत सुन्दर यह कविता..
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  22. अनुराग जी,बहुत ही सुंदर रचना है!!!!!!!!!!! शुभकामनाएं !!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।