Wednesday, January 14, 2009

चंद अशआर

संजो के रखो इसे, हाथ से न जाने दो
बात निकलेगी तो बेकार चली जायेगी।
-x-X-x-

जब कभी लोग बुरे वक़्त से गुज़रते हैं
गैर बच जाते हैं अपने ही बुरे बनते हैं।
-x-X-x-

छोड़ फूलों को परे काँटे जो उठाते हैं
ज़ख्म और दर्द ही हिस्से में उनके आते हैं ।
-x-X-x-

सर भी भारी नहीं ये दम भी आज घुटता नहीं,
बाद मुद्दत के मेरे अश्क बाँध तोड़ चले।
-x-X-x-

[अनुराग शर्मा]

[यह पोस्ट लिखते समय पिट्सबर्ग का तापमान शून्य से १३ डिग्री सेल्सियस नीचे है। और आज रात में (भारत में शुक्रवार की सुबह) यह शून्य से २० अंश नीचे जाने वाला है ]

29 comments:

  1. सर भी भारी नहीं ये दम भी आज घुटता नहीं,
    बाद मुद्दत के मेरे अश्क बाँध तोड़ चले।
    " भावुक अभिव्यक्ति...अश्को के बाँध टुटे तो सैलाब बह निकला ...बहुत सुंदर"

    Regards

    ReplyDelete
  2. jab kabhi log bure -----bahut khoob likha hai badhaai

    ReplyDelete
  3. सर भी भारी नहीं ये दम भी आज घुटता नहीं,
    बाद मुद्दत के मेरे अश्क बाँध तोड़ चले।

    bahut shaandaar abhivyakti.

    raam raam.

    ReplyDelete
  4. वाह।

    छोड़ फूलों को परे कांटे जो उठाते हैं
    ज़ख्म और दर्द ही हिस्से में उनके आते हैं ।

    बहुत उम्दा। ये कुछ हमारे करीब लगा।

    ReplyDelete
  5. waah ji, majaa aa gaya, wah.

    ReplyDelete
  6. अच्‍छे अशआर हैं। पहला शेर बरबस ही 'बात निकली है तो दूर तलक जाएगी' की याद दिला देता है।

    ReplyDelete
  7. जब कभी लोग बुरे वक़्त से गुज़रते हैं
    गैर बच जाते हैं अपने ही बुरे बनते हैं।

    बहुत ही उम्दा बात कही आपने यही सच है ज़िन्दगी का सबसे बड़ा

    ReplyDelete
  8. वाह..बेजोड़। गजब के अशआर हैं, बात सीधे दिल में उतरती है। आम बोलचाल के शब्‍दों से बुनी आपकी शायरी की यह खासियत पाठकों को अपने प्रवाह में बहा ले जाती है।

    ReplyDelete
  9. ये लाइन बड़ी अच्छी लगी:
    गैर बच जाते हैं अपने ही बुरे बनते हैं।

    और ये तो कभी-कभी हो जाता है :
    बाद मुद्दत के मेरे अश्क बाँध तोड़ चले।

    ReplyDelete
  10. हर शेर एक से बढ कर एक. बहुत ही सुंदर
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. सर भी भारी नहीं ये दम भी आज घुटता नहीं,
    बाद मुद्दत के मेरे अश्क बाँध तोड़ चले।
    प्रभावित कर गयी यह अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  12. Aap roj kuch na kuch likhte rahen, kya khoob likha hai.

    ReplyDelete
  13. कविता पढ़ने पर जब नीचे का कोष्ठक में लिखा तापमान पढ़ा तो दशा की कल्पना नहीं कर पाया।
    मैं तो यही सोचता रहा कि इस तापमान पर तेल की पटरियों की क्या दशा होती होगी। बस कौतूहल है।

    ReplyDelete
  14. सुंदर रचना के लिए साधुवाद.

    ReplyDelete
  15. सर भी भारी नहीं ये दम भी आज घुटता नहीं,
    बाद मुद्दत के मेरे अश्क बाँध तोड़ चले।

    चलो अच्छा ही हुआ, वर्ना यूं भी तो हो सकता था:

    इक परिज़ाद की रुसवाई का डर है वरना,
    हम भी सावन की तरह , खुल के बरसते यारों...

    ReplyDelete
  16. जब कभी लोग बुरे वक़्त से गुज़रते हैं
    गैर बच जाते हैं अपने ही बुरे बनते हैं।

    bahut sahi baat kahi hai aapne....

    ReplyDelete
  17. काफी दिनों बाद बेहतरीन अशआर पढे ।
    शुभकामनाओं सहित अतुल

    ReplyDelete
  18. अनुराग भाई,
    आपने खूब कहा जी ..
    और ...
    "मकर सँक्रात " गुजरा है
    - तिल गुड खायेँ -
    ठँड से भी बचाव और मिठास भी ..
    आपके जाल घर पर पधारे सभी पाठकोँ को मकर सँक्रात की बधाई

    ReplyDelete
  19. अच्छे शेर हैं.

    ReplyDelete
  20. भई वाह... अनुराग जी.. अब समझ में आया कि ये शायरी की गरमी ही इस ठंड में बचा रही है आपको... खैर.. बढ़िया...

    ReplyDelete
  21. भई वाह अनुराग जी अब समझ में आया कि ये शायरी की गरमी ही इस ठंड में बचा रही है आपको खैर बढ़िया

    ReplyDelete
  22. भाई उत्तम. बहुत उम्दा शेर.

    ReplyDelete
  23. सर भी भारी नहीं ये दम भी आज घुटता नहीं,
    बाद मुद्दत के मेरे अश्क बाँध तोड़ चले।

    बहुत खूब अशआर लिखे हैं.

    [sardi se bachey rahen..aur barf bari ka mazaa len...

    ReplyDelete
  24. जन्मदिन की बधाई का शुक्रिया अनुराग। मिठाई तो टोरांटो आने पर ही मिलेगी। प्लान बनाइये फ़ैमिली के साथ और आ जाइये।

    ReplyDelete
  25. छोटे छोटे बंद गहरे भावः बहुत सुंदर अनुराग जी
    Pradeep Manoria
    http://manoria.blogspot.com
    http://kundkundkahan.blogspot.com

    ReplyDelete
  26. अनुराग जी
    बहुत खूबसूरत शेर हैं, संजो कर रखने के लिए

    ReplyDelete
  27. वाह...........
    सुन्दर शेर.......

    अनु

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।