Thursday, November 4, 2010

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

.
साल की सबसे अंधेरी रात में*
दीप इक जलता हुआ बस हाथ में
लेकर चलें करने धरा ज्योतिर्मयी

बन्द कर खाते बुरी बातों के हम
भूल कर के घाव उन घातों के हम
समझें सभी तकरार को बीती हुई

कड़वाहटों को छोड़ कर पीछे कहीं
अपना-पराया भूल कर झगडे सभी
प्रेम की गढ लें इमारत इक नई

(* कार्तिक अमावस्या)

=======================
चित्र एवं कविता: अनुराग शर्मा 
=======================

सम्बन्धित कड़ियाँ
* शुभ दीपावली - बहुत बधाई और एक प्रश्न
* हमारे पर्व और त्योहार

50 comments:

  1. अनुराग भाई

    एक तो आपका फोन नम्बर ईमेल कर दिजिये और दूसरा:


    सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल 'समीर'

    ReplyDelete
  2. आपको एव परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. जितना अंधकार गहरा होगा, उजाले का महत्व भी उतना ही ज्यादा होगा।
    शुभ दीपावली।

    ReplyDelete
  4. तस्वीर और शब्द मनभावन है.
    आप सब को ज्योतिपर्व की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  5. अच्‍छा लगा। हम सबकी ओर से हार्दिक अभिनन्‍दन और शुभ-कानाऍं।

    ReplyDelete
  6. तस्वीर और शब्द बहुत सुंदर है......दीपावली की मंगलकामनाएँ.....

    ReplyDelete
  7. सुन्दर कविता के लिये धन्यवाद. दीपावली की बधाई

    ReplyDelete
  8. इस कामना में मेरा भी सुर मिला मानिये ! पर्व की अनंत अशेष शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  9. आदरणीय अनुराग जी,
    चरण स्पर्श...
    दीपावली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभ कामनायें...
    दीपों की तरह आपका जीवन भी जगमगाता रहे और सबको रौशनी देता रहे...
    धन्यवाद
    अंकित.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर रचना है!
    --
    प्रेम से करना "गजानन-लक्ष्मी" आराधना।
    आज होनी चाहिए "माँ शारदे" की साधना।।

    अपने मन में इक दिया नन्हा जलाना ज्ञान का।
    उर से सारा तम हटाना, आज सब अज्ञान का।।

    आप खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
    दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

    ReplyDelete
  11. दिवाली पर्व है खुशियों का, उजालो का, लक्ष्मी का! यह दिवाली आपकी ज़िन्दगी खुशियों से भरी हो, दुनिया उजालो से रोशन हो, घर पर माँ लक्ष्मी का आगमन हो! शुभ दीपावली!

    ReplyDelete
  12. दीवाली की ढेरों शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  13. आपको भी शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  14. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
    जीवन में लाए खुशियां अपार।
    लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
    शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

    ReplyDelete
  16. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें ..!

    ReplyDelete
  17. 'असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय, मृत्योर्मा अमृतं गमय ' यानी कि असत्य की ओर नहीं सत्‍य की ओर, अंधकार नहीं प्रकाश की ओर, मृत्यु नहीं अमृतत्व की ओर बढ़ो ।

    दीप-पर्व की आपको ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं ! आपका - अशोक बजाज रायपुर

    ReplyDelete
  18. " सुख सुहाग की दिव्य ज्योति से
    घर आँगन मुस्काये
    ज्योति चरण धर कर दीवाली
    घर आँगन नित आये "
    पं. नरेन्द्र शर्मा
    परिवार को मेरी शुभकामनाएं
    दीपावली मंगलमय हो और
    आपके स्नेह सन्देश भी सदा साथ हों
    - warmest regds to
    Dear Apra & Surya ji too

    ReplyDelete
  19. दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  20. @Udan Tashtari
    कोई फोन नंबर का लकी ड्रा निकालने वाले हैं का?

    ReplyDelete
  21. कड़वाहटों को छोड़ कर पीछे कहीं
    अपना-पराया भूल कर झगडे सभी
    प्रेम की गढ लें इमारत इक नई
    सुन्दर सन्देश। धन्यवाद अनुराग जी कल ब्लाग पर आ नही पाई। बहुत बहुत शुभकामनायें सिर्फ एक दीपावली के लिये नही उम्र भर के लिये।

    ReplyDelete
  22. कवितामय शुभकामना के लिये बधाई . आपको भी दिपावली शुभ हो

    ReplyDelete
  23. आपको दीपावली की मंगल कामनाएं ....

    ReplyDelete
  24. दीपावली पर्व अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  25. अनुराग जी, दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें स्वीकार करें...

    ReplyDelete
  26. दीपावली केशुभअवसर पर मेरी ओर से भी , कृपया , शुभकामनायें स्वीकार करें

    ReplyDelete
  27. वाह ..आपको भी दिवाली की शुभकामनाएं....कविता के माध्यम से तो नहीं पर दिल से....

    ReplyDelete
  28. आपको दिवाली मुबारक! ईश्वर खुश रखे !

    ReplyDelete
  29. आप को भी परिवार समेत दीवाली की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  30. उत्कृष्ट भावोँ को संप्रेषित करती सार्थक रचना,आपको परिवार व मित्रगणोँ सहित दीपोत्सव की ढेरोँ शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  31. अति सुन्दर....** दीप ऐसे जले कि तम के संग मन को भी प्रकाशित करे ***शुभ दीपावली **

    ReplyDelete
  32. दीपावली के पावन पर्व पर आपको मित्रों, परिजनों सहित हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ!

    way4host
    RajputsParinay

    ReplyDelete
  33. अनुराग जी,आपके व आपके समस्त परिवार के स्वास्थ्य, सुख समृद्धि की मंगलकामना करता हूँ.दीपावली के पावन पर्व की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ.
    दुआ करता हूँ कि 'स्मार्ट इंडियन'सैदेव स्मार्ट रहे और आपके सुन्दर सद लेखन से ब्लॉग जगत हमेशा हमेशा आलोकित होता रहे.

    ReplyDelete
  34. नव आशा विश्वास लिये आये दीवाली ,
    जीवन में रच जाये हर पल नई खुशाली .
    सुख-समृद्धि से पूर्ण,रहे हर गृह ,शुभ-मति हो ,
    यह वसुधा हो शुभ-श्री, मंडित महिमाशाली !

    ReplyDelete
  35. अनुराग जी...
    आपको व आपके परिवार को दीवावली की हार्दिक शुभकामनाएं ...

    दीपावली पर सुंदर संदेश आपने अपनी कविता से दिया है।

    ReplyDelete
  36. आप को भी दीपावली के इस मुहूर्त पर
    बहुत - बहुत शुभ कामनाएं !

    ReplyDelete
  37. आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेर पोस्ट पर आपका स्वागत है । दीपावली की अशेष शुभकामनाओं के साथ---सादर

    ReplyDelete
  38. बहुत खूब।
    यहां तो राज भाटिया भी हैं..स्वस्थ हैं मतलब।

    ReplyDelete
  39. • ˚ •˛•˚ * 。 • ˚ ˚ ˛ ˚ ˛ •
    • ˚Happy★* 。 • ˚ ˚ ˛ ˚ ˛ •
    •。★diwali!★ 。* • ˚。
    ° 。 ° ˛˚˛ * _Π_____*。*˚
    ˚ ˛ •˛•˚ */______/~\。˚ ˚ ˛
    ˚ ˛ •˛• ˚ | 田田 |門

    ReplyDelete
  40. सोने का रथ, चांदनी की पालकी;
    बैठकर जिसमें है माँ लक्ष्मी आई;
    देने आपको और आपके पूरे परिवार को;
    धनतेरस की बधाई!

    ReplyDelete
  41. बाहर का अँधेरा फिर भी उपयोगी है विश्राम के लिए,
    लेकिन भीतर का अहंकार रूपी अँधेरा अच्छे व्यक्तित्व को भी धूमिल कर देता है !
    बेहद सार्थक,चित्र सहित सुन्दर लगी रचना ! अनंत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  42. खुशियों में सभी रंग जाये , आओ ऐसे मनायें दीवाली |
    शान्ति औ सद्भाव लिए हो ,विश्व मित्रता भाव लिए हो ||
    जनमानस सद्भाव लिए हो ,हम शान्ति का गीत सुनाएं |
    खुशियों की दीवाली आओ , 'मंगल' मीत-मीत को भाएँ||

    ReplyDelete
  43. खुशियों में सभी रंग जाये , आओ ऐसे मनायें दीवाली |
    शान्ति औ सद्भाव लिए हो ,विश्व मित्रता भाव लिए हो ||
    जनमानस सद्भाव लिए हो ,हम शान्ति का गीत सुनाएं |
    खुशियों की दीवाली आओ , 'मंगल' मीत-मीत को भाएँ||

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।