Saturday, September 24, 2011

ओसामा जी से हैलोवीन तलक - सैय्यद चाभीरमानी

.
सैय्यद चाभीरमानी के परिचय की आवश्यकता नहीं है। आप उनसे पहले भी मिल चुके हैं। मैं तो उनकी बातों से इतना पक चुका हूँ कि घर से बाहर निकलने से पहले चुपचाप इधर-उधर झांक कर इत्मीनान कर लेता हूँ कि वे मेरी ताक में बाहर तो नहीं खडे हैं। हमने तो उनके डर से सुबह की सैर पर जाना भी बन्द कर दिया। उसके बाद वे शाम की चाय पे हमारे घर आने लगे तो आखिरकार हम घर बेच के शहर के बाहर चले गये। लेकिन जब भाग्य खराब हो तो सारी सतर्कता धरी की धरी रह जाती है। अपनी माँ के जन्मदिन पर बच्चों ने ज़िद की अपनी माँ के लिये कुछ उपहार खुद चुनकर लायेंगे तो उनकी ज़िद पर हम चल दिये नगर के सबसे बडे मॉल में। बच्चे मूर्तिकला और हस्तशिल्प खण्ड में खोजबीन करने में लग गये तभी अचानक एक भारी-भरकम मूर्ति हमारे ऊपर गिरी। हम भी चौकन्ने थे सो हमने अपना कंधा टूटने से पहले ही मूर्ति को पकडकर रोक लिया। यह क्या, मूर्ति तो "भाईजान, भाईजान" चिल्लाने लगी। देखा तो सैय्यद सामने मौजूद थे। दाढी तो उन्होंने पाकिस्तान छोड़ते ही कटा ली थी। इस बार मूंछ भी गायब थी।

इससे पहले कि वे हमें बोर करें इस बार हमने आक्रामक नीति अपना ली जिससे वे खुद ही बोर होकर निकल लें और हमें बख्श दें।

"मूंछ क्या हुई? क्या भाभी ने उखाड़ दी गुस्से में?"

"उसकी यह मज़ाल, काट नहीं डालूंगा उसे।"

"इत्ता आसान है क्या? पकडे नहीं जाओगे? कानून का कोई खौफ़ है कि नहीं?"

"क्यों दुखती रग़ पर हाथ रख रहे हो? पुराना टाइम होता तो पाकिस्तान ले जाकर काट देता। अब तो वहाँ भी पहुँच गये ये जान के दुश्मन। ओसामा जी को समन्दर में दफ़ना दिया। मगर एक बात बडे मज़े की पता लगी मियाँ ..."

"क्या?"

"येई कि तुमारे हिन्दुस्तान में भी एक शेर मौज़ूद है अभी भी।"

"एक? अजी हिन्दुस्तान तो शेरो-शायरी की जन्नत हैं, असंख्य शायर हैं वहाँ।"

"अमाँ, जेई बात खराब लगती है आपकी हमें, हर बात का उल्टा मतलब निकाल्लेते हो। हम बात कर रहे हैं, शेर जैसे बहादुर आदमी की।"

"अच्छा, अच्छा! अन्ना हज़ारे की खबर पहुँच गयी तुम तक?"

"हज़ार नहीं, एक की बात कर रहे हैं हम, अरे वोई जिसको जूते मारने की कै रहे थे कुछ हिन्दुत्वा वाले, विग्दीजे सींग टाइप कोई नाम था उसका। लगता चुगद सा है मगर बात बडी हिम्मत की कर रिया था।"

जब तक हम पूछ्ते कि सैयद किसके सींग की बात कर रहे हैं, वे खुद ही ऐसे ग़ायब हुए जैसे गधे के सिर से सींग। हमने भी भगवान का धन्यवाद दिया कि बला टली।

आगे चलते हुए जब स्टोर के हैलोवीन खण्ड पहुँचे तो सैयद से फ़िर मुलाक़ात हो गयी। इस बार वे एक यांत्रिक दानव को बड़े ग़ौर से देख रहे थे। जैसी कि अपनी आदत है मैने भी चुटकी ली, "लड़का ढूंढ रहे हैं क्या भाभीजान के लिये?"

हमेशा की तरह कहने के बाद लगा कि शायद नहीं कहना चाहिये था पर ज़बान का तीर कोई ब्लॉग-पोस्ट तो है नहीं कि छोड़ने के बाद हवा में ही दिशा बदल डालो। सैयद ने अपनी चारों आंखें हम पर गढाईं। हम कुछ असहज हुए। फिर अचानक से वे ठठाकर हँस पड़े और बोले, "अरे मैं न पडता इन झमेलों में। 20 खरीदने पडेंगे।"

"बीस क्यों भई?" अब चौंकने की बारी हमारी थी, "भाभी तो एक ही हैं?"

"तुम्हें पता ही नहीं, अपनी चार बीवियाँ हैं। एक यहाँ है, बड़ी तीन पाकिस्तान में ही रहती हैं।"

"तो भी चार ही हुए न?" यह नया पाकिस्तानी गणित हमें समझ नहीं आया।

"हरेक की चार माँ भी तो हैं, 16 उनके लिये 16 जमा 4, कुल बीस हुए कि नहीं?"

हम कुछ समझते इससे पहले ही सैयद चाभीरमानी फिर से ग़ायब हो चुके थे।
========================
सम्बन्धित कड़ियाँ
========================
* सैय्यद चाभीरमानी और हिंदुत्वा एजेंडा
* सैय्यद चाभीरमानी और शाहरुख़ खान

16 comments:

  1. फ़िर आयेंगे, जरूर आयेंगे। आदत लग चुकी है उन्हें आपकी या कहिये आप जैसों की।

    ReplyDelete
  2. ये भी अजब गजब कैरेक्टर हैं

    ReplyDelete
  3. बीबियों का गणित तो बड़ा पेचीदा है।

    ReplyDelete
  4. सैय्यद चाभीरमानी का गणित तो आइन्स्टाइन को भी परेशान करनेवाला लगता है :)

    ReplyDelete
  5. बढ़िया चरित्र है यह, जिसका हट लेना सबसे माकूल जवाब होता है।

    ReplyDelete
  6. पहली बार पढ़ा इस चरित्र को। आपकी मूड और चाभरानी के मिलने के बीच गहरा संबंध तो नहीं है? कहने का मतलब जब उखड़ा हो, तभी मिलते हों..!

    ReplyDelete
  7. आज ही मिले आपके इस चाभिरामानीजी से ...
    मुझे लगता है अब वे आपसे छिपते फिर रहे होंगे!

    ReplyDelete
  8. कभी-कभी काल्पनिक चरित्रों के बहाने हम वह कह जाते हैं जो ऐसे नहीं कह सकते....सींग गायब होने का सीन ज़ोरदार रहा !

    ReplyDelete
  9. जबरदस्त हैं ये चाभीरमानी जी!!
    सच में मज़ा आया इनसे मिल के।
    मैंने पहली बार पढ़ा और पीछे के लिनक्स भी देख आया।

    ReplyDelete
  10. @मुझे लगता है अब वे आपसे छिपते फिर रहे होंगे!

    नहीं जी, ऐसी मिरी तक़दीर कहाँ, बच तो अभी भी हम ही रहे हैं जब तक सम्भव हो, दयालु हैं न!

    ReplyDelete
  11. @ आपकी मूड और चाभरानी के मिलने के बीच गहरा संबंध तो नहीं है? कहने का मतलब जब उखड़ा हो, तभी मिलते हों..!

    अजी आपने अभी हमें ठीक से पहचाना नहीं है। अपना मूड कंसिस्टैंटली गुड है।

    ReplyDelete
  12. @फ़िर आयेंगे, जरूर आयेंगे। आदत लग चुकी है उन्हें आपकी या कहिये आप जैसों की।

    सोच रिया हूँ कि इस बार आपका पता थमा दूंगा, फ़त्तू से मिला देना।

    ReplyDelete
  13. चाभीरमानी से मिले शायद दो साल होने को आये, बहुत याद आ रही थी इन सांई की, मैं सोचता हुं कि चाभीरमानी को फ़त्तु भाई जान से मिलवा दिया जाये तो क्या सीन उपस्थित होगा?:)

    रामराम.

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।