Sunday, December 14, 2008

काश - कविता

.
एकाकीपन के निर्मम मरू में
मैं असहाय खड़ा पछताता
कोई आता

दुःख के सागर में डूबा
मैं ज्यों ही ऊपर उतराता
कोई आता

घोर व्यथा अवसाद में डूबे
पीड़ित हिय को वृथा आस दिखलाता
कोई आता

आंसू की अविरल धारा
बहने से रोक नही पाता*
कोई आता

मेरा जीवन रक्षक बन जाता
कोई आता।

==========================
==========================

25 comments:

  1. घोर व्यथा अवसाद में डूबे
    पीड़ित हिय को वृथा आस दिखलाता
    कोई आता

    बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति !

    राम राम !

    ReplyDelete
  2. एकाकीपन के निर्मम मरू में
    मैं असहाय खड़ा पछताता
    कोई आता
    "आंसू की अविरल धारा को जब ,
    बहने से रोक नही मै पाता,
    कोई आता"
    " असहाय पीडा की अनुभूति ,"

    ReplyDelete
  3. बहुत कमाल के शब्द चयन से गुथीं रचना है ये...वाह...
    नीरज

    ReplyDelete
  4. बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  5. मुक्त छंद की अद्भुत अनुभूतियां...

    ReplyDelete
  6. मार्मिक रचना। कम शब्दों बहुत कुछ कह गए आप।

    ReplyDelete
  7. घोर व्यथा अवसाद में डूबे
    पीड़ित हिय को वृथा आस दिखलाता
    कोई आता

    सुंदर अभिव्यक्ति, कुछ ही शब्दों मैं कही गहरी बात
    सारगर्भित रचना

    ReplyDelete
  8. कम लफ्जों में अधिक बात कही आपने ..सुंदर

    ReplyDelete
  9. शब्द चयन कविता का सौंदर्य है!

    ReplyDelete
  10. काश........., सुन्दर अद्भुत.

    ReplyDelete
  11. मुक्‍त छन्‍‍द में 'नव-गीत' के शिल्‍प वाली ऐसा रचना बहुत दिनों बाद पढने को मिली ।
    भावनाएं और शब्‍द चयन तो सदैव की तरह सुन्‍दर है ही ।

    ReplyDelete
  12. घोर व्यथा अवसाद में डूबे
    पीड़ित हिय को वृथा आस दिखलाता
    कोई आता

    मेरा जीवन रक्षक बन जाता
    कोई आता।

    सच उम्मीद साथ हो तो इंसान बड़े से बड़ा पहाड़ चढ़ जाता है, मुसीबत पर जीत हासिल कर लेता है। बढ़िया कविता।

    ReplyDelete
  13. अरे बन्धु, न जाने क्यों सूर्यकान्त त्रिपाठी "निराला" की याद हो आई।

    ReplyDelete
  14. अच्छी रचना, 'आता' शब्द से निराला की भिक्षुक याद आ गई.

    ReplyDelete
  15. --मेरा जीवन रक्षक बन जाता
    कोई आता।'
    ati sundar!
    Anuraag ji aap ne kam shbdon mein sundar rachna likhi hai.

    ReplyDelete
  16. ज्ञानदत्त जी की बातों से सहमत हूँ!
    अनुराग भाई, सचमुच आपने निराला जी की याद दिला दी.
    मार्मिक होते हुए भी सुंदर रचना!

    ReplyDelete
  17. तुम ही हो खुद के रक्षक भी, तुम ही खुद के भक्षक भी।

    आंखें खोलो आगे देखो, संसार खडा है स्‍वागत में।

    ReplyDelete
  18. एकाकीपन के निर्मम मरू में,
    मैं असहाय खड़ा पछताता.............कोई आता......

    बहुत बहुत सुंदर भावपूर्ण मार्मिक अभिव्यक्ति.बहुत ही सुंदर कविता है मन को छू जाती है.

    सहसा उस गीत का स्मरण हो आया...
    कोई आता मैं सो जाता.......

    ReplyDelete
  19. वाह वाह बेहतरीन भावाभिव्यक्ति बधाई आपको

    ReplyDelete
  20. युँ तो घने अंधेरे ए परछाई भी साथ छोड देती है ....

    आप कविता बहुत अच्छी लिखते है पिछले पोस्ट की भी कविता काबीले तारीफ़ थी !!

    ReplyDelete
  21. मंदी की मार से मरते
    बाजार में जब कोई हल नजर नही आता है
    तब अच्छा से पैकेज लेकर
    कोई आता है

    अच्छी कविता की लिये बधाई.

    ReplyDelete
  22. एकाकीपन के निर्मम मरू में
    मैं असहाय खड़ा पछताता
    कोई आता

    मेरा जीवन रक्षक बन जाता
    कोई आता।

    बेहतर अभिव्यक्ति |

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।